Geet-pahal

गीत-पहल


    

गीत-पहल में कॉपीराइट के सम्बन्ध में

गीत-पहल पूर्णतया अव्यावसायिक जालस्थल है.  इस जालस्थल के अस्तित्व और विकास के पीछे किसी का कोई भी आर्थिक हित नहीं है. गीत-पहल का एकमात्र उद्देश्य हिन्दी गीतों एवं नवगीतों और उनसे सम्बंधित सामग्री को इन्टरनेट पर एक स्थान पर उपलब्ध कराना है ताकि संसारभर के पाठक-विद्वान् इसका लाभ उठा सकें. इस प्रकार से गीत-पहल हिंदी काव्य को विश्वभर में प्रचारित एवं प्रसारित करने  का एक प्रयास है.

गीत-पहल में संकलित सभी रचनाओं/आलेखों के साथ रचनाकारों का नाम दिया जाता है जिससे उन्हें  उचित श्रेय मिलता है.

तथापि यदि किसी रचनाकार / कॉपीराइट-धारक को कोई आपत्ति है तो उनसे विनम्र आग्रह है कि वे हिन्दी काव्य के प्रचार-प्रसार को ध्यान में रखते हुए गीत-पहल टीम से अनजाने में हुई भूल को क्षमा कर देंगे. साथ ही यदि किसी रचनाकार/ कॉपीराइट-धारक को कोई आपत्ति है तो कृपया गीत-पहल टीम को सूचित कर देवें जिससे उस रचना/ आलेख को  गीत-पहल से हटाया जा सके. किसी विवाद की स्थिति में न्याय क्षेत्र मुरादाबाद (उ.प्र., भारत) ही होगा.

© गीत-पहल हिन्दी गीतों एवं नवगीतों और उनसे सम्बंधित सामग्री को इन्टरनेट पर एक स्थान पर लाने का एक अव्यावसायिक और सामूहिक प्रयास है। इस वेबसाइट पर संकलित सभी रचनाओं/आलेखों के सर्वाधिकार सम्बंधित रचनाकार/ लेखक या अन्य वैध कॉपीराइट धारक के पास सुरक्षित हैं। © Poems collected in the Geet-pahal are copyrighted by the respective poets/authors or copyright owners. 


            

 

 

 

 

इस माह के विशिष्ट रचनाकार :

                                                                       वीरेंद्र आस्तिक

 



सूरज लील लिए


हिरना

इस जंगल में

कब पूरी उम्र जिए


घास और पानी पर रहकर

सब तो, बाघों के मुंह से

निकल नहीं पाते

कस्तूरी पर वय चढ़ते ही

साये, आशीषों के

सर पर से उठ जाते

कस्तूरी के

माथे को

पढ़ते बहेलिए


इनके भी जो बूढ़े मुखिया होते

साथ बाघ के

छाया में पगुराते

कभी सींग पर बैठ

चिरैया गाती

या फिर मरीचिकाओं पर मुस्काते

जंगल ने

कितने

तपते सूरज लील लिए


पूर्णिमा वर्मन

 



आवारा दिन


दिन कितने आवारा थे

गली गली और

बस्ती बस्ती

अपने मन

इकतारा थे


माटी की

खुशबू में पलते

एक खुशी से

हर दुख छलते

बाड़ी, चौक, गली अमराई

हर पत्थर गुरुद्वारा थे

हम सूरज

भिनसारा थे


किसने बड़े

ख़्वाब देखे थे

किसने ताज

महल रेखे थे

माँ की गोद, पिता का साया

घर घाटी चौबारा थे

हम घर का

उजियारा थे